Tag: Vasudhaiva Kutumbakam

ओम ब्रह्म: निरपेक्ष – सभी अस्तित्व का स्रोत

हिंदू धर्म में, ब्राह्मण Brahman (Sanskrit: ब्रह्मन्) उच्चतम सार्वभौमिक सिद्धांत, ब्रह्मांड में परम वास्तविकता को दर्शाता है। हिंदू दर्शन के प्रमुख विद्यालयों ...

Read more

भारतीय संस्कृत और राष्ट्रवाद संकीर्ण नहीं इसका प्रमाण संसद भवन में अंकित सूक्तियां हैं

विश्व इतिहास में भारतीय संस्कृति का वही स्थान एवं महत्व है जो असंख्य द्वीपों के सम्मुख सूर्य का है." भारतीय ...

Read more

जब हम वसुधैवकुटुम्बकम कहते हैं तो भारतीयसंस्कृति की क्या भूमिका है?

वसुधैव कुटुम्बकम् सनातन धर्म का मूल संस्कार तथा विचारधारा हैजो महा उपनिषद सहित कई ग्रन्थों में लिपिबद्ध है। इसका अर्थ है- धरती ही परिवार ...

Read more

QR CODE SCAN कर प्रेमेन्द्र अग्रवाल द्वारा लिखित पुस्तकें पढ़िए ऑनलाइन​

  • Trending
  • Comments
  • Latest

Recent News